Wednesday, December 1, 2021

कर्नाटक में ये भी है भी कर सकते है राज्यपाल !

Must Read

लखनऊ ट्रैफिक कर्मियों ने भारी मात्रा में पकड़ी अवैद्ध शराब गाड़ी छोड़कर चालक फरार

लखनऊ ब्रेकिंग ट्रैफिक कर्मियों ने भारी मात्रा में अवैद्ध शराब पकड़ी चिनहट तिराहे पर चेकिंग के दौरान शक होने पर...

मंत्री नन्दी और महापौर ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को सौंपी आवास की चाभी

लोगों के आशियाने के सपने को पूरा कर रही मोदी और योगी सरकार: नन्दी मंत्री नन्दी और महापौर ने प्रधानमंत्री...

सृष्टि अपार्टमेंट्स में स्वतंत्रता दिवस पर हुआ ध्वजारोहण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम

सृष्टि अपार्टमेंट में बड़े उत्साह से मनाया गया राष्ट्रीय पर्व 15 अगस्त। आज सृष्टि अपार्टमेंट वासियों द्वारा ध्वजारोहण के उपरांत...

क्या योगी आदित्य नाथ उत्तर प्रदेश के चीफ मिनिस्टर दोबारा बनने चाहिए?

बेंगलुरु : कर्नाटक विधानसभा के नतीजे आ जाने के बाद आंकड़ों का गणित ऐसे उलझा है की सरे देश की नज़रे अब राजभवन पर आ टिकी है. एक चाल से ही तस्वीर बदल सकती है लेकिन तस्वीर बदलने का सबसे बड़ा अधिकार राज्यपाल के पास है. कर्नाटक में सबसे ज्यादा सीटें हासिल करने वाली भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और जनता दल सेक्युलर के समर्थन से सरकार बनाने की जुगत में लगी कांग्रेस में से किसे सरकार बनाने के लिए न्योता देना है, इसका फैसला राज्यपाल वजुभाई आर वाला करेंगे. एक्सपर्ट्स की मानें तो अब तीन संभावनाएं बनती हैं-
राजनीतिक एक्सपर्ट्स का मानना है कि जिस तरह गोवा और मणिपुर में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरने के बाद कांग्रेस ने सरकार बनाने की पेशकश की थी, बीजेपी को भी वही तर्क सामने रखना चाहिए. दोनों राज्यों में कांग्रेस को ज्यादा वोट मिलने के बावजूद बीजेपी ने क्षेत्रीय पार्टियों के साथ मिलकर सरकार बनाई थी.
पूर्व अटर्नी जनरल सोली सोराबजी का मानना है कि पहले सबसे बड़ी पार्टी को न्योता दिया जाना चाहिए. सदन के फ्लोर पर वह 7 से 10 दिन में अपना बहुमत साबित करे. अगर वह पार्टी बहुमत साबित नहीं कर सकी तब अगली सबसे बड़ी पार्टी या गठबंधन को न्योता दिया जाना चाहिए. अगर वह भी बहुमत साबित नहीं कर सके, ऐसी स्थिति में राष्ट्रपति शासन लगना चाहिए.
कई तरह के तर्कों से हटकर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार बनाने का न्योता देने का अधिकार राज्यपाल को उनके विवेक के आधार पर दिया है. लोकसभा के पूर्व महासचिव सुभाष कश्यप का कहना है कि राज्यपाल को किसी भी पार्टी, चुनाव से पहले या बाद में बने गठबंधन को न्योता देना होता है, अगर वह इस बात से संतुष्ट हैं तो जिसे वह न्योता दे रहे हैं, वे सदन में बहुमत साबित कर सकेंगे.

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

लखनऊ ट्रैफिक कर्मियों ने भारी मात्रा में पकड़ी अवैद्ध शराब गाड़ी छोड़कर चालक फरार

लखनऊ ब्रेकिंग ट्रैफिक कर्मियों ने भारी मात्रा में अवैद्ध शराब पकड़ी चिनहट तिराहे पर चेकिंग के दौरान शक होने पर...

मंत्री नन्दी और महापौर ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को सौंपी आवास की चाभी

लोगों के आशियाने के सपने को पूरा कर रही मोदी और योगी सरकार: नन्दी मंत्री नन्दी और महापौर ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को...

सृष्टि अपार्टमेंट्स में स्वतंत्रता दिवस पर हुआ ध्वजारोहण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम

सृष्टि अपार्टमेंट में बड़े उत्साह से मनाया गया राष्ट्रीय पर्व 15 अगस्त। आज सृष्टि अपार्टमेंट वासियों द्वारा ध्वजारोहण के उपरांत सास्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन सोसायटी...

भीटी ब्लाक गाव के एक ही परिवार के 4 सदस्यों को दिया गया आवास—

अम्बेडकरनगर भीटी ब्लाक गाव के एक ही परिवार के 4 सदस्यों को दिया गया आवास--- रिपोर्ट अमित सिंह अम्बेडकरनगर खंड विकास अधिकारी से शिकायत के बावजूद भी ग्राम...

सिटीजन चार्टर के संबंध में ग्राम पंचायत चककोड़ार मे बैठक

  रिपोर्ट _अमित सिंह अम्बेडकरनगर  बृहस्पतिवार को ग्राम पंचायत चककोड़ार मे सिटीजन चार्टर के संबंध में बैठक की गई जिनमे ग्राम पंचायत के लोगों को सिटीजन...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -