Friday, March 5, 2021

वाराणसी फ्लाईओवर हादसाः देर रात घटनास्थल पहुंचे मुक्यमंत्री योगी, घायलों से पूछा हाल

Must Read

उत्तर प्रदेश विधान सभा द्वारा रूपये 5,85,910,42,77,000 की धनराशि के लिए विनियोग विधेयक, 2021 पारित

उत्तर प्रदेश विधान सभा द्वारा रूपये 5,85,910,42,77,000 की धनराशि के लिए विनियोग विधेयक, 2021 पारित उत्तर प्रदेश के वित्त, चिकित्सा...

नर्सिंग का काम किसी डॉक्टर से कम नही-नर्सिंग सेवा तथा समर्पण का प्रतीक- डॉ शीला तिवारी

नर्सिंग का काम किसी डॉक्टर से कम नही-नर्सिंग सेवा तथा समर्पण का प्रतीक- डॉ शीला तिवारी   नर्सिंग सिर्फ एक पेशा...

-रंग ला रही खुशहाल परिवार दिवस की पहल

  -रंग ला रही खुशहाल परिवार दिवस की पहल - नवम्बर से नई पहल के तहत हर माह की 21 तारीख...

वाराणसी कैंट रेलवे स्टेशन के समीप निर्माणाधीन फ्लाईओवर हादसे का जायजा लेने के लिए CM योगी आदित्यनाथ मंगलवार देर रात पहुंचे। उनसे पहले हादसे की जानकारी मिलने पर उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने नौ बजे शहर पहुंच कर दुर्घटनास्थल का मौका-मुआयना किया। रात 11:45 बजे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शहर पहुंच गए।
उप मुख्यमंत्री मौर्य ने उप्र सेतु निगम के चार अभियंताओं को निलंबित कर दिया है। इसमें चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर एचसी तिवारी, प्राजेक्ट मैनेजर केआर सूदन, सहायक अभियंता राजेश सिंह और अवर अभियंता लालचंद शामिल हैं। हादसे की जांच के लिए तकनीकी टीम का गठन किया गया है। हादसे के बाद बनारस पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सर्किट हाउस में कहा कि घटना में 15 लोगों की मौत हुई और 11 घायल हैं।

सीएम योगी ने कहा कि इस हादसे की हकीकत जानने के लिए तीन सदस्यीय तकनीकी टीम का गठन किया गया है। टीम की रिपोर्ट के बाद जिम्मेदारों पर कार्रवाई की जाएगी। यह घटना बहुत दुखद है। हादसे के बाद ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मुझसे जानकारी ली और इसके बाद मैंने उप मुख्यमंत्री केशव मौर्य को यहां भेज दिया था। हमारी प्राथमिकता घायलों को बेहतर इलाज देने की है।

हादसे में मृतकों को पांच लाख, गंभीर घायलों के दो लाख और घायलों को 50-50 हजार रुपये की मदद की जा रही है। बता दें कि निर्माणाधीन चौकाघाट-लहरतारा फ्लाईओवर के दो बीम मंगलवार शाम सड़क पर गिर पड़े। बीम के नीचे एक महानगर सेवा की बस सहित दर्जन भर वाहन दब गए। बीम के नीचे दबे वाहनोें को गैस कटर से काट कर सेना और एनडीआरएफ के जवानों ने 18 शव और 30 से अधिक घायलों को बाहर निकाला है।

घायलों में 14 की हालत गंभीर बताई गई है। हादसे के लगभग आधा घंटे बाद पुलिस पहुंची और तकरीबन डेढ़ घंटे बाद राहत और बचाव कार्य शुरू हुआ। जिन बीम के नीचे वाहन दबे थे, उसे हटाने के लिए एक-एक कर 11 क्रेन आईं लेकिन उसे उठा नहीं सकीं।

सभी 11 क्रेन की मदद से बीम को हल्का सा उठाया गया तो दो ऑटो, दो बोलेरो, दो कार, तीन बाइक और एक अप्पे को बाहर निकाल कर महानगर बस को खींचा गया। रात 10 बजे राहत कार्य का पहला चरण समाप्त हो गया। इस दौरान देरी से राहत और बचाव कार्य शुरू होने के कारण भीड़ में मौजूद लोगों ने पुलिस-प्रशासन के विरोध में कई बार नारेबाजी की।

सेतु निगम ले आता जेसीबी तो बच जाती कई की जान
हादसे के बाद फ्लाईओवर निर्माण कार्य से जुड़े लोग मौके से भाग निकले। दरअसल, कई हजार टन वजनी बीम को सेतु निगम कंप्रेशर वाली भारी क्षमता की जेसीबी से उठवा कर पिलर पर रखवाता है। मगर, हादसे के बाद सेतु निगम के अधिकारियों ने अपनी जेसीबी नहीं मंगवाई और राहत-बचाव कार्य शुरू होने में ही घंटों लग गए।

इंजीनियरिंग पर काला धब्बा
निर्माणाधीन फ्लाईओवर के दो बीम गिरने से हुआ हादसा बनारस के इंजीनियरिंग पर काला धब्बा बन गया है। इंजीनियरिंग से जुड़े जानकारों का मानना है कि सुरक्षा मानकों की अनदेखी और पिलर पर रखे बीम का संतुलन बिगड़ने के कारण दुर्घटना हुई है। हालांकि जिस पिलर पर बीम रखे हुए थे, वह पुरानी स्थिति में हैं

सेतु निगम के रिटायर्ड इंजीनियर आरके सिंह और पीडब्ल्यूडी के रिटायर्ड इंजीनियर केएम श्रीवास्तव का इंजीनियरिंग में पहला अध्याय सिखाया जाता है कि काम वाली साइट पर खून की एक बूंद नहीं गिरनी चाहिए।

हादसा इंजीनियरिंग की तकनीक पर सवाल खड़े करता है। सिंचाई विभाग के रिटायर्ड इंजीनियर वीके जायसवाल ने कहा कि जहां ओवरहेड काम होता है, वहां अधिक सावधानी बरती जाती है। काम कराने वाले ही बता सकते हैं कि वहां क्या कमी रह गई थी।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

उत्तर प्रदेश विधान सभा द्वारा रूपये 5,85,910,42,77,000 की धनराशि के लिए विनियोग विधेयक, 2021 पारित

उत्तर प्रदेश विधान सभा द्वारा रूपये 5,85,910,42,77,000 की धनराशि के लिए विनियोग विधेयक, 2021 पारित उत्तर प्रदेश के वित्त, चिकित्सा...

नर्सिंग का काम किसी डॉक्टर से कम नही-नर्सिंग सेवा तथा समर्पण का प्रतीक- डॉ शीला तिवारी

नर्सिंग का काम किसी डॉक्टर से कम नही-नर्सिंग सेवा तथा समर्पण का प्रतीक- डॉ शीला तिवारी   नर्सिंग सिर्फ एक पेशा नहीं बल्कि सेवा और समर्पण...

-रंग ला रही खुशहाल परिवार दिवस की पहल

  -रंग ला रही खुशहाल परिवार दिवस की पहल - नवम्बर से नई पहल के तहत हर माह की 21 तारीख को हो रहा आयोजन - तीन...

लखनऊ में यातायात व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए सात दिवसीय कैप्सूल कोर्स प्रारंभ

  *यातायात व्यवस्था में सुधार के लिए सात दिवसीय कैप्सूल कोर्स प्रारंभ* आज दिनांक 15 -02-2021 से सदर कैंट स्थित यातायात पुलिस लाइन मैं यातायात व्यवस्था...

अंडरगारमेंट्स में छुपा कर ला रहे यात्री से 1 करोड़ के ऊपर का सोना पकड़ा गया-लखनऊ एयरपोर्ट का मामला

लखनऊ एयरपोर्ट पर कस्टम को बड़ी सफलता मिली है। दुबई से लखनऊ पहुंचे चार यात्रियों के पास 3 किलो ग्राम सोना मिला है। विमान...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -