Thursday, January 21, 2021

उन्नाव रेप कांड : आरोपी बीजेपी MLA कुलदीप सिंह सेंगर भेजे गए जेल

Must Read

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने MSME को लेकर दिये निर्देश

लखनऊ   एम0एस0एम0ई0 सेक्टर में रोजगार उपलब्ध कराने की अपार सम्भावनाएं - मुख्यमंत्री प्रदेश सरकार नवीन MSME इकाइयों की स्थापना तथा पूर्व...

गणतंत्र दिवस पर 500 कैदी होंगे रिहा

गणतंत्र दिवस पर 500 कैदी होंगे रिहा यूपी सरकार गणतंत्र दिवस पर उम्र दराज और गंभीर बीमारियों से पीड़ित करीब...

महामारी के बावजूद के.आई.आई.टी. में रिकॉर्ड प्लेसमेंट

महामारी के बावजूद के.आई.आई.टी. में रिकॉर्ड प्लेसमेंट कोविड-19 महामारी, देश ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में लोगों के जीवन-यापन में...

 

उन्नाव में किशोरी से दुष्कर्म और उसके पिता की हत्या मामले में आरोपी बांगरमऊ से बीजेपी के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को शुक्रवार को उन्नाव जेल भेज दिया गया. बता दें कुलदीप सिंह सेंगर की आज सीबीआई रिमांड खत्म हुई है. इसके बाद CBI ने उसे विशेष अदालत में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया. कहा जा रहा है कि कोर्ट ने विधायक को फिर से रिमांड पर दिए जाने की मांग को ख़ारिज कर दिया, जिसके बाद उन्हें उन्नाव जेल में शिफ्ट कर दिया।

इससे पहले 22 अप्रैल को उन्नाव गैंगरेप मामले विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई अतुल सेंगर व उसके 5 साथियों को कोर्ट में पेश किया गया था. जहां सीबीआई के दोबारा रिमांड नहीं मांगने पर कोर्ट ने सभी को उन्नाव जिला जेल भेज दिया था. इस मामले में सीबीआई ने आरोपी अतुल सिंह की फॉरच्यूनर और रायफल अपने कब्जे में ले लिया है. पीड़िता के पिता की हत्या के आरोपी और विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई अतुल सेंगर व उसके 5 साथियों की रिमांड पिछले रविवार को खत्म हुई थी। बता दें किशोरी से दुष्कर्म के आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने भाई अतुल सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज न करने के लिए उन्नाव की एसपी पुष्पांजलि से पैरवी की थी. सेंगर भाई की पैरवी करने उसी दिन पहुंचे थे, जिस दिन पीड़िता के पिता की पिटाई की गई थी।

सूत्रों का कहना है कि 3 अप्रैल को जब पीड़िता के पिता की पिटाई की गई तो विधायक शहर में ही थे. घटना के बाद उन्होंने एसपी से फोन पर बात की. उसके बाद शाम को स्थानीय ब्लॉक प्रमुख के साथ भाई की पैरवी करने के लिए एसपी के आवास पहुंच गए। सूत्रों का दावा है कि सेंगर ने भाई के खिलाफ मुकदमा दर्ज न करने के लिए एसपी पर दबाव बनाया, जिसका असर भी देखने को मिला और पुलिस ने पीड़िता के पिता को ही जेल भेज दिया. इतना ही नहीं, जब परिवार वाले मुकदमा लिखाने गए तो उन्हें भगा दिया गया. बाद में जिलाधिकारी और लखनऊ के अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद मुकदमा दर्ज किया गया, लेकिन इसमें विधायक के भाई का नाम दर्ज नहीं किया गया. एसआईटी ने अपनी रिपोर्ट में भी इस बात का जिक्र किया है।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने MSME को लेकर दिये निर्देश

लखनऊ   एम0एस0एम0ई0 सेक्टर में रोजगार उपलब्ध कराने की अपार सम्भावनाएं - मुख्यमंत्री प्रदेश सरकार नवीन MSME इकाइयों की स्थापना तथा पूर्व...

गणतंत्र दिवस पर 500 कैदी होंगे रिहा

गणतंत्र दिवस पर 500 कैदी होंगे रिहा यूपी सरकार गणतंत्र दिवस पर उम्र दराज और गंभीर बीमारियों से पीड़ित करीब 500 कैदियों को करेगी रिहा लखनऊ...

महामारी के बावजूद के.आई.आई.टी. में रिकॉर्ड प्लेसमेंट

महामारी के बावजूद के.आई.आई.टी. में रिकॉर्ड प्लेसमेंट कोविड-19 महामारी, देश ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में लोगों के जीवन-यापन में एक ठहराव-सा ला दिया है।...

लगातार कोरोना केश में कमी भारत के लिए ख़ुशी की खबर एक दिन में 10 हजार लोग संक्रमित

नयी दिल्ली। भारत में कोरोना का कहर थमा बाईट महीनो की अपेक्षा कोरोना केशो में भारी कमी  भारत में बीते सात महीने से अधिक...

दिवंगत अभिनेता सौमित्र चटर्जी की जयंती बोलीं ममता बनर्जी ,कहा ‘उनकी कमी खल रही है’

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को दिवंगत अभिनेता सौमित्र चटर्जी को उनके 86वें जन्मदिन पर याद किया और कहा कि...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -