Saturday, January 23, 2021

उम्रकैद की सजा सुनते ही सिर पकड़ कर रोने लगा,बलात्कारी आसाराम As soon as he heard the sentencing of life imprisonment, he started crying and raping Asaram

Must Read

चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने विभिन्न चिकित्सा संस्थानों में किए जा रहे कोविड-19 वैक्सीनेशन का निरीक्षण किया

*चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने विभिन्न चिकित्सा संस्थानों में किए जा रहे कोविड-19 वैक्सीनेशन का निरीक्षण किया* उत्तर प्रदेश के चिकित्सा...

भारत में कोरोना के 24 घंटे में 14,545 नए केस

नयी दिल्ली। देश में कोरोना के 14,545 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमण के मामले बढ़कर...

राम मंदिर निर्माण के लिए नींव खुदाई का कार्य आरंभ

  अयोध्या राम मंदिर निर्माण के लिए नींव खुदाई का कार्य आरंभ नींव खुदाई के लिए गर्भगृह के स्थल पर किया...
जोधपुर।बुरे काम का बुरा नतीजा ऊपर वाले के घर में देर है पर अंधेर नहीं ,जी हा यह कथन बिलकुल सत्य साबित हुआ आपको बताते चले की  जोधपुर की  अदालत ने भक्तो की भावनाओ से खिलवाड़ करने वाले बलात्कारी  कथावाचक आसाराम को नाबालिग से बलात्कार के मामले में आज दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई। अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति अदालत के विशेष न्यायाधीश मधुसूदन शर्मा ने जोधपुर सेंट्रल जेल परिसर में यह फैसला सुनाया। पीड़िता ने आसाराम पर उसे जोधपुर के नजदीक मनाई इलाके में आश्रम में बुलाने और 15 अगस्त 2013 की रात उसके साथ बलात्कार करने का आरोप लगाया था। अदालत ने कहा कि आसाराम को उम्रकैद के तहत मृत्यु तक जेल में रहना होगा। आसाराम के सहयोगी शिल्पी और शरद को 20-20 साल की सजा सुनाई गयी है। अदालत ने तीनों दोषियों पर एक-एक लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया है।

 

सजा सुनाए जाते ही आसाराम सिर पकड़ कर नीचे बैठ गया और रोने लगा और कहा कि उसे ऐसे फैसले की आशा नहीं थी। सजा सुनाए जाने से पहले आसाराम कोर्ट में बार-बार पानी पीते और हरि ओम का जाप करते देखा गया। वह काफी परेशान नजर आ रहा था।
 
आसाराम मामले में अंतिम सुनवाई एससी/एसटी मामलों की विशेष अदालत में सात अप्रैल को पूरी हो गई थी और फैसला 25 अप्रैल तक के लिए सुरक्षित रखा गया था। आसाराम को इंदौर से गिरफ्तार कर एक सितंबर 2013 को जोधपुर लाया गया था और दो सितंबर 2013 से वह न्यायिक हिरासत में है। आसाराम और चार अन्य सह- आरोपियों शिव, शिल्पी, शरद और प्रकाश के खिलाफ पॉक्सो अधिनियम, किशोर न्याय अधिनियम और भादंवि की विभिन्न धाराओं के तहत छह नवंबर 2013 को पुलिस ने आरोपपत्र दायर किया था।
 
आसाराम पर गुजरात के सूरत में भी बलात्कार का एक मामला चल रहा है जिसमें उच्चतम न्यायालय ने अभियोजन पक्ष को पांच सप्ताह के भीतर सुनवायी पूरी करने का निर्देश दिया था। आसाराम ने 12 बार जमानत याचिका दायर की, जिसे छह बार निचली अदालत ने, तीन बार राजस्थान उच्च न्यायालय और तीन बार उच्चतम न्यायालय ने खारिज किया
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने विभिन्न चिकित्सा संस्थानों में किए जा रहे कोविड-19 वैक्सीनेशन का निरीक्षण किया

*चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने विभिन्न चिकित्सा संस्थानों में किए जा रहे कोविड-19 वैक्सीनेशन का निरीक्षण किया* उत्तर प्रदेश के चिकित्सा...

भारत में कोरोना के 24 घंटे में 14,545 नए केस

नयी दिल्ली। देश में कोरोना के 14,545 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 1,06,25,428 हो गए, जिनमें से...

राम मंदिर निर्माण के लिए नींव खुदाई का कार्य आरंभ

  अयोध्या राम मंदिर निर्माण के लिए नींव खुदाई का कार्य आरंभ नींव खुदाई के लिए गर्भगृह के स्थल पर किया गया पूजन अर्चन विश्वकर्मा भगवान का...

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने MSME को लेकर दिये निर्देश

लखनऊ   एम0एस0एम0ई0 सेक्टर में रोजगार उपलब्ध कराने की अपार सम्भावनाएं - मुख्यमंत्री प्रदेश सरकार नवीन MSME इकाइयों की स्थापना तथा पूर्व स्थापित इकाइयों के सुदृढ़ीकरण के...

गणतंत्र दिवस पर 500 कैदी होंगे रिहा

गणतंत्र दिवस पर 500 कैदी होंगे रिहा यूपी सरकार गणतंत्र दिवस पर उम्र दराज और गंभीर बीमारियों से पीड़ित करीब 500 कैदियों को करेगी रिहा लखनऊ...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -