Saturday, September 18, 2021

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के साथ वर्चुअल बैठक में शामिल हुए up के विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित-रखा up का पक्ष

Must Read

लखनऊ ट्रैफिक कर्मियों ने भारी मात्रा में पकड़ी अवैद्ध शराब गाड़ी छोड़कर चालक फरार

लखनऊ ब्रेकिंग ट्रैफिक कर्मियों ने भारी मात्रा में अवैद्ध शराब पकड़ी चिनहट तिराहे पर चेकिंग के दौरान शक होने पर...

मंत्री नन्दी और महापौर ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को सौंपी आवास की चाभी

लोगों के आशियाने के सपने को पूरा कर रही मोदी और योगी सरकार: नन्दी मंत्री नन्दी और महापौर ने प्रधानमंत्री...

सृष्टि अपार्टमेंट्स में स्वतंत्रता दिवस पर हुआ ध्वजारोहण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम

सृष्टि अपार्टमेंट में बड़े उत्साह से मनाया गया राष्ट्रीय पर्व 15 अगस्त। आज सृष्टि अपार्टमेंट वासियों द्वारा ध्वजारोहण के उपरांत...

क्या योगी आदित्य नाथ उत्तर प्रदेश के चीफ मिनिस्टर दोबारा बनने चाहिए?

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के साथ वर्चुअल बैठक में शामिल हुए up के विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित

देश के सभी पीठासीन अधिकारियों से सदनों की कार्यवाही में बाधा दूर करने वाली गठित समिति को अपने सुझाव भेजने का आग्रह
श्री हृदय नारायण दीक्षित
लोकसभा के अध्यक्ष श्री ओम बिरला द्वारा अपने विगत 2 वर्षों के कार्यअनुभवों एवं विभिन्न राज्यों की विधान सभाओं/विधान परिषदों के अध्यक्ष/सभापतियों से भी अपने अनुभवों को साझा करने के लिए आज दिनांक-22 जून, 2021 को वर्चुअल बैठक बुलायी गयी।

उत्तर प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष, श्री हृदय नारायण दीक्षित ने मा0 लोक सभा अध्यक्ष द्वारा बुलाई गयी बैठक में उत्तर प्रदेश का पक्ष प्रस्तुत करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश जनसंख्या की दृष्टि से अन्य कई दृष्टियों में भी देश का सबसे बड़ा राज्य है। कोरोना की महामारी ने पूरे देश को प्रभावित किया है। उत्तर प्रदेश भी इस महामारी से प्रभावित हुआ है।

उत्तर प्रदेश राज्य सहित अन्य राज्यों के समक्ष संवैधानिक बाध्यता रही जहां 6 महीने व्यतीत होने वाले थे, वहां पर बैठक बुलाया जाना अपरिहार्य था। उत्तर प्रदेश में भी कोरोना के बीच बैठक बुलाये जाने की संवैधानिक अपरिहार्यता बनी।

श्री दीक्षित ने कहा कि उत्तर प्रदेश पहला ऐसा राज्य था जहां पर दिनांक-20 अगस्त से 22 अगस्त 2020 तक कोरोना महामारी के बीच बैठक बुलाई गयी। हमारे सामने कोई अनुभव नहीं था।

कोरोना के बीच विषम परिस्थितियों में बैठक बुलाये जाने हेतु सामान्य परंपरा के अनुसार सदन के प्रारम्भ होने के पहले बुलाये जाने के स्थान पर 15-20 दिन पहले बैठक बुलाई गयी थी। मा0 मुख्यमंत्री, संसदीय कार्यमंत्री, सभी दलीय नेताओं ने भाग लिया।

पक्ष एवं प्रतिपक्ष के साथ व्यापक रणनीति बनाई गई। सदस्यों को एक सीट छोड़कर दूसरी सीट पर बैठाने की व्यवस्था बनाई गयी। इसके अतिरिक्त मा0 विधायकों को दर्शक एवं विशिष्ट दीर्घाओं में बैठने की व्यवस्था सुनिश्चित की गयी।

पत्रकारों के लिए भी एक कक्ष अलग से निर्धारित किया गया। 65 साल के ऊपर वाले सदस्यों एवं विधान सभा में न आ पाने की स्थिति में रहे विधायकों को वर्चुअल बैठक की व्यवस्था की गई। सदन सुचारू रूप से सुन्दर ढंग से चला।

उत्तर प्रदेश द्वारा कोरोना के बीच बैठक के आयोजन का अनुकरण अन्य राज्यों द्वारा भी किया गया। कोरोना महामारी के बीच दुर्भागपूर्ण घटना भी घटी जिसमें 9 साथी विधायकों को खोना पड़ा। जिसमें 3 मंत्रिमण्डल के सदस्य थे। विधान सभा के एक अधिकारी एवं एक कर्मचारी की भी कोरोना के बीच खोया।

उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष ने उत्तर प्रदेश की कार्यवाही के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि विधायी सदन 2019-20 एवं 2020-21 विशेष रूप से स्मरणीय रहा। 2019-20 में साल भर में 6 बैठके आहूत की गयी। प्रथम सत्र के अतिरिक्त मा0 राज्यपाल द्वारा संवेत सदन को 2 बार सम्बोधित किया गया। प्रथम बजट सत्र पर एवं द्वितीय संविधान दिवस पर।

वर्ष 2019-20 में 242 सदस्यों ने चर्चा में भाग लिया। कार्यवाही 143 घण्टे 51 मिनट चली। 2021 में 116 सदस्यों ने भाग लिया। 65 घण्टे 31 मिनट तक सदन की कार्यवाही चली। प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मार्गदर्शन एवं विशेष रूचि लेने पर 3 बार विशेष सत्र चलाया गया। 02 अक्टूबर को महात्मा गांधी की 150 जयंती के अवसर पर, संयुक्त राष्ट्र संघ के 17 सतत विकास के कार्यक्रमों के लक्ष्यों की प्राप्ति हेतु 36 घण्टे का रातो-दिन निरंतर सदन चला। संयुक्त राष्ट्र संघ के सतत विकास के 17 लक्ष्यों पर चर्चा हुई।

26 नवम्बर को संविधान अंगीकृत करने की तिथि को संविधान की उद्देश्किा एवं मूल कर्तव्यों पर विचार विमर्श करने के लिए विशेष बैठक आहूत हुई। इसी तरह 31 दिसम्बर 2019 को संविधान का 126 संशोधन विधेयक आरक्षण के संसद के द्वारा पास किये गये संविधान संशोधन के अनुसमर्थन में बैठक बुलाई गयी।
उत्तर प्रदेश विधान सभा से 2019-20 में 58 एवं 2021 में मात्र 10 दिनों के उपवेशन में कुल 18 विधेयक पारित हुए।

श्री दीक्षित ने सदनों की कार्यवाही में बाधा दूर करने के लिए गठित समिति के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि अन्य विधान सभाओं की तरह उत्तर प्रदेश में भी राज्यपाल के अभिभाषण पर हो-हल्ला, हाउस के वेल में जाकर कार्यवाही के संचालन में व्यवधान एवं निरंतर प्रश्न काल को बाधित करना आदि की समस्याएं रही है। सदन के भीतर विचार-विमर्श प्रेमपूर्ण एवं प्रीतिपूर्ण हो और मा0 सदस्यगण अपनी-अपनी बात शालीनता और सुन्दर ढंग से रख सके इसके लिए लोकसभा अध्यक्ष ने समिति का गठन किया। उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष को उसका अध्यक्ष एवं 6 राज्यों के अध्यक्षों को सदस्य मनोनीत किया गया है।

लोकसभा के अध्यक्ष की प्रशंसा करते हुए कहा कि उनके द्वारा विगत दो साल के कार्यकाल में कार्यवाही सुचारू रूप से चले इसके लिए कई अभिनव प्रयोग किये है और अनेकों बार अनेक स्तरों पर विचार-विमर्श किया है।

श्री दीक्षित ने कहा कि सदनों की कार्यवाही में बाधा दूर करने के लिए प्रकारांतर में बैठके हो चुकी है। सुझाव भी आए है। कोरोना महामारी के कारण बैठकों के आयोजन में कठिनाई के कारण कुछ विलम्ब अवश्य हुआ।

समिति यथाशीघ्र अपने निर्णय को अंतिम रूप देते हुए मा0 लोक सभा अध्यक्ष को अपनी संस्तुति भेजेंगे।
श्री अध्यक्ष ने कहा कि इस बीच कई विधान सभाओं में चुनाव हुए जिसमें कई नए मा0 अध्यक्ष निर्वाचित हुए है। उन्होंने देश के सभी विधान सभा एवं विधान परिषद के सदस्यों से आग्रह किया की सदनों में कार्यवाही में बाधा दूर करने के लिए गठित समिति के पास अपने-अपने सुझाव लिखकर भिजवाने की कृपा करें, जिससे व्यापक रूप से विचार कर निर्णय लेने का अवसर प्राप्त हो सके।

इस वर्चुअल बैठक में असम, बिहार, गुजरात, मध्य प्रदेश, केरल, महाराष्ट्र, कर्नाटक, ओडिशा, राजस्थान आदि विधान सभाओं के अध्यक्षों/विधान परिषद के सभापतियों एवं अन्य विधान सभाओं सहित 31 पीठासीन अधिकारियों ने भाग लिया।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

लखनऊ ट्रैफिक कर्मियों ने भारी मात्रा में पकड़ी अवैद्ध शराब गाड़ी छोड़कर चालक फरार

लखनऊ ब्रेकिंग ट्रैफिक कर्मियों ने भारी मात्रा में अवैद्ध शराब पकड़ी चिनहट तिराहे पर चेकिंग के दौरान शक होने पर...

मंत्री नन्दी और महापौर ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को सौंपी आवास की चाभी

लोगों के आशियाने के सपने को पूरा कर रही मोदी और योगी सरकार: नन्दी मंत्री नन्दी और महापौर ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को...

सृष्टि अपार्टमेंट्स में स्वतंत्रता दिवस पर हुआ ध्वजारोहण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम

सृष्टि अपार्टमेंट में बड़े उत्साह से मनाया गया राष्ट्रीय पर्व 15 अगस्त। आज सृष्टि अपार्टमेंट वासियों द्वारा ध्वजारोहण के उपरांत सास्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन सोसायटी...

भीटी ब्लाक गाव के एक ही परिवार के 4 सदस्यों को दिया गया आवास—

अम्बेडकरनगर भीटी ब्लाक गाव के एक ही परिवार के 4 सदस्यों को दिया गया आवास--- रिपोर्ट अमित सिंह अम्बेडकरनगर खंड विकास अधिकारी से शिकायत के बावजूद भी ग्राम...

सिटीजन चार्टर के संबंध में ग्राम पंचायत चककोड़ार मे बैठक

  रिपोर्ट _अमित सिंह अम्बेडकरनगर  बृहस्पतिवार को ग्राम पंचायत चककोड़ार मे सिटीजन चार्टर के संबंध में बैठक की गई जिनमे ग्राम पंचायत के लोगों को सिटीजन...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -