Sunday, March 7, 2021

नही रहे महान लेखक श्रद्धये श्री राम सुमन जी -बाराबंकी में निजी आवास पर ली अंतिम साँस

Must Read

उत्तर प्रदेश विधान सभा द्वारा रूपये 5,85,910,42,77,000 की धनराशि के लिए विनियोग विधेयक, 2021 पारित

उत्तर प्रदेश विधान सभा द्वारा रूपये 5,85,910,42,77,000 की धनराशि के लिए विनियोग विधेयक, 2021 पारित उत्तर प्रदेश के वित्त, चिकित्सा...

नर्सिंग का काम किसी डॉक्टर से कम नही-नर्सिंग सेवा तथा समर्पण का प्रतीक- डॉ शीला तिवारी

नर्सिंग का काम किसी डॉक्टर से कम नही-नर्सिंग सेवा तथा समर्पण का प्रतीक- डॉ शीला तिवारी   नर्सिंग सिर्फ एक पेशा...

-रंग ला रही खुशहाल परिवार दिवस की पहल

  -रंग ला रही खुशहाल परिवार दिवस की पहल - नवम्बर से नई पहल के तहत हर माह की 21 तारीख...

नही रहे महान लेखक श्रद्धये श्री राम सुमन जी -बाराबंकी में निजी आवास पर ली अंतिम साँस

 

कहते है कि मृत्यु के बाद इंसान को लोग भूल जाते है उनकी यादें चली जाती है लेकिन ऐसा नही है मनुष्य सिर्फ शरीर छोड़ता है लेकिन उसकी आत्मा अमर अजर रहती है खासतौर पर एक लेखक कभी नही मर सकता क्योंकि लेखक हमेशा हमारे जहन में होता है हमारे जिंदगी में होता है।

 इन किताबो की रचनाओं से हुए विश्व विख्यात साहित्यकार

बहुजन चिंतक बहुजन साहित्यकार एवं लेखक के रूप में सेतुबंध, दुर्गारहस्य ,बौद्ध विध द्वारा विवाह संस्कार ,बंद आंखें , बरे हार के फूल ,
चीन भारत की लड़ाई आज बहुत बौद्ध धर्म का पवित्र स्थल धन नाग प्रसिद्ध किताबों का लेखन कार्य किया जिसमें दुर्गा रहस्य भारत के 4 भाषाओं में अनुवादित हुई

जिसकी रचनाओ को हम आप ओर हमारे आने वाली पीढ़िया पढ़ कर ज्ञान अर्जित करती है ऐसे ही एक महान आत्मा अब हमारे बीच नही है जिनका नाम है स्वर्गीय श्री राम सुमन यह मूल रूप से बाराबंकी जिले के निवासी थे स्वास्थ्य खराब होने के कारण महान बहुजन चिंतक लेखक सरल स्वभाव के धनी श्री राम सुमन जी का स्वर्गवास हो गया।

आइये जानते है श्री राम सुमन जी के बारे में::::::::;;;;

 

बहुजन समाज पार्टी का प्रथम लोकसभा चुनाव जनपद बाराबंकी से अपनी पत्नी कमला देवी को लड़ाने वाले तथा भारतीय बौद्ध महासभा के प्रथम जिला अध्यक्ष बहुजन चिंतक लेखक एडवोकेट श्रद्धेय श्री राम सुमन जी का बाराबंकी में निज आवास पर रविवार शाम 5:00 बजे निधन हो गया।

उनका जन्म दिनांक 23 दिसंबर 1947 को जनपद बाराबंकी में हुआ था। उन्होंने हाई स्कूल की शिक्षा नेशनल इंटर कॉलेज फतेहपुर बाराबंकी तथा इंटर राजकीय इंटर कालेज बाराबंकी से ली आगे की पढ़ाई के लिए वे लखनऊ गए जहां उन्होंने विधान्त हिन्दू डिग्री कालेज से स्नातक की शिक्षा ली उन्होंने विधि स्नातक जय नारायन डिग्री कालेज लखनऊ से किया। इसके साथ ही आयुर्वेद रत्न की भी उपाधि प्रयाग विश्वविद्यालय से ली इस दौरान वे 1965 में नेशनल इंटर कालेज हिंदी विभाग के छात्र संघ के अध्यक्ष भी रहे 1968 में छात्र जीवन मे ही बेगार प्रथा के विरुद्ध आंदोलन तक भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता भी रहे।

उनका हिंदी आंदोलन में भी सक्रिय योगदान रहा 1970 में विधान्त हिन्दू डिग्री कालेज लखनऊ के इतिहास विभाग के अध्यक्ष रहे 1980 से 1985 तक बामसेफ बाराबंकी के सहसंयोजक भी रहे 1996 में आर्यवर्त ग्रामीण बैंक के कर्मचारी संघ के संस्थापक अध्यक्ष रहे 1997 में आर्यवर्त ग्रामीण बैंक के अधिकारी संघ के संस्थापक सदस्य रहे 1997 से 2007 तक बैंक की सेवा तथा 2007 में सेवानिवृत्त होने के बाद वर्तमान में भारतीय बौद्धमहासभ उत्तर प्रदेश पंजीकृत के अध्यक्ष थे।

2009 से विधि ब्यवसाय में भी थे 2016 से लगातार स्वास्थ्य खराब होने के कारण बौद्ध महासभा के संरक्षक के तौर पर कार्य कर रहे थे।
वही उनके आकस्मिक निधन से बौद्ध समाज मे शोक ब्याप्त है दिनांक 22 अक्टूबर को उनके आवास पर उनके परिवार के द्वारा शांति पाठ आयोजन किया गया।

इस मौके पर उनके परिवार से उनकी बड़ी बेटी डॉ नीलम चौधरी दामाद डॉ मुकेश कुमार छोटी बेटी अलका उमाशंकर पुत्र एडवोकेट दीपक कुमार बलवीर सिंह विदिशा हरीश चौधरी कीर्ति सिंह शिवराम सहित उनके सैकड़ों चाहने वाले इस शांति पाठ के मौके पर पहुच कर उनको श्रद्धा सुमन अर्पित कर उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

उत्तर प्रदेश विधान सभा द्वारा रूपये 5,85,910,42,77,000 की धनराशि के लिए विनियोग विधेयक, 2021 पारित

उत्तर प्रदेश विधान सभा द्वारा रूपये 5,85,910,42,77,000 की धनराशि के लिए विनियोग विधेयक, 2021 पारित उत्तर प्रदेश के वित्त, चिकित्सा...

नर्सिंग का काम किसी डॉक्टर से कम नही-नर्सिंग सेवा तथा समर्पण का प्रतीक- डॉ शीला तिवारी

नर्सिंग का काम किसी डॉक्टर से कम नही-नर्सिंग सेवा तथा समर्पण का प्रतीक- डॉ शीला तिवारी   नर्सिंग सिर्फ एक पेशा नहीं बल्कि सेवा और समर्पण...

-रंग ला रही खुशहाल परिवार दिवस की पहल

  -रंग ला रही खुशहाल परिवार दिवस की पहल - नवम्बर से नई पहल के तहत हर माह की 21 तारीख को हो रहा आयोजन - तीन...

लखनऊ में यातायात व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए सात दिवसीय कैप्सूल कोर्स प्रारंभ

  *यातायात व्यवस्था में सुधार के लिए सात दिवसीय कैप्सूल कोर्स प्रारंभ* आज दिनांक 15 -02-2021 से सदर कैंट स्थित यातायात पुलिस लाइन मैं यातायात व्यवस्था...

अंडरगारमेंट्स में छुपा कर ला रहे यात्री से 1 करोड़ के ऊपर का सोना पकड़ा गया-लखनऊ एयरपोर्ट का मामला

लखनऊ एयरपोर्ट पर कस्टम को बड़ी सफलता मिली है। दुबई से लखनऊ पहुंचे चार यात्रियों के पास 3 किलो ग्राम सोना मिला है। विमान...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -