Wednesday, December 1, 2021

3300 करोड़ के हवाला रैकेट का पर्दाफाश….

Must Read

लखनऊ ट्रैफिक कर्मियों ने भारी मात्रा में पकड़ी अवैद्ध शराब गाड़ी छोड़कर चालक फरार

लखनऊ ब्रेकिंग ट्रैफिक कर्मियों ने भारी मात्रा में अवैद्ध शराब पकड़ी चिनहट तिराहे पर चेकिंग के दौरान शक होने पर...

मंत्री नन्दी और महापौर ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को सौंपी आवास की चाभी

लोगों के आशियाने के सपने को पूरा कर रही मोदी और योगी सरकार: नन्दी मंत्री नन्दी और महापौर ने प्रधानमंत्री...

सृष्टि अपार्टमेंट्स में स्वतंत्रता दिवस पर हुआ ध्वजारोहण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम

सृष्टि अपार्टमेंट में बड़े उत्साह से मनाया गया राष्ट्रीय पर्व 15 अगस्त। आज सृष्टि अपार्टमेंट वासियों द्वारा ध्वजारोहण के उपरांत...

क्या योगी आदित्य नाथ उत्तर प्रदेश के चीफ मिनिस्टर दोबारा बनने चाहिए?

आयकर विभाग ने नवंबर के पहले हफ्ते में 42 ठिकानों पर छापा मारा. आयकर विभाग ने फर्जी बिल जारी करने और हवाला लेनदेन को अंजाम देने वाले लोगों के समूह के ठिकानों पर छापेमारी की. ये तलाशी दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, इरोड, पुणे, आगरा और गोवा में हुई. छापों से आईटी डिपार्टमेंट ने 3300 करोड़ रुपये के हवाला रैकिट का पर्दाफाश किया.

  • नवंबर के पहले हफ्ते में 42 ठिकानों पर छापेमारी
  • 3300 करोड़ रुपये के हवाला रैकिट का पर्दाफाश

आयकर विभाग ने नवंबर के पहले हफ्ते में 42 ठिकानों पर छापा मारा. आयकर विभाग ने फर्जी बिल जारी करने और हवाला लेनदेन को अंजाम देने वाले लोगों के समूह के ठिकानों पर छापेमारी की. ये तलाशी दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, इरोड, पुणे, आगरा और गोवा में हुई. छापों से आईटी डिपार्टमेंट ने 3300 करोड़ रुपये के हवाला रैकिट का पर्दाफाश किया.

सीबीडीटी ने बयान जारी कर कहा कि टैक्स चोरी के इस बड़े खेल को उजागर करने के लिए दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, इरोड, पुणे, आगरा और गोवा में 42 परिसरों पर इस महीने के पहले सप्ताह में छापेमारी की गई. इसमें बुनियादी संरचना के शीर्ष कॉरपोरेट घरानों की ओर से फर्जी अनुबंधों और बिलों के जरिए टैक्स चोरी के बड़े रैकेट का पता चला है. हालांकि सीबीडीटी ने उन निकायों के नाम नहीं बताए जिनके परिसरों पर छापेमारी की गई.

आयकर विभाग ने दावा किया कि सार्वजनिक बुनियादी संरचनाओं पर खर्च की जाने वाली राशि का एंट्री ऑपरेटरों, लॉबी करने वालों और हवाला डीलरों के जरिये हेर-फेर किया गया. इस बयान में कहा गया कि पैसों का हेर-फेर करने में शामिल कंपनियां मुख्य तौर पर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और मुंबई में स्थित हैं. सीबीडीटी ने कहा कि जिन परियोजनाओं की राशि का हेर-फेर किया गया वे प्रमुख बुनियादी संरचना और आर्थिक तौर पिछड़ी श्रेणी से जुड़ी परियोजनाएं हैं. छापेमारी में आंध्र प्रदेश के एक नामी गिरामी शख्स को 150 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान करने के भी सबूत मिले हैं.

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

लखनऊ ट्रैफिक कर्मियों ने भारी मात्रा में पकड़ी अवैद्ध शराब गाड़ी छोड़कर चालक फरार

लखनऊ ब्रेकिंग ट्रैफिक कर्मियों ने भारी मात्रा में अवैद्ध शराब पकड़ी चिनहट तिराहे पर चेकिंग के दौरान शक होने पर...

मंत्री नन्दी और महापौर ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को सौंपी आवास की चाभी

लोगों के आशियाने के सपने को पूरा कर रही मोदी और योगी सरकार: नन्दी मंत्री नन्दी और महापौर ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को...

सृष्टि अपार्टमेंट्स में स्वतंत्रता दिवस पर हुआ ध्वजारोहण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम

सृष्टि अपार्टमेंट में बड़े उत्साह से मनाया गया राष्ट्रीय पर्व 15 अगस्त। आज सृष्टि अपार्टमेंट वासियों द्वारा ध्वजारोहण के उपरांत सास्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन सोसायटी...

भीटी ब्लाक गाव के एक ही परिवार के 4 सदस्यों को दिया गया आवास—

अम्बेडकरनगर भीटी ब्लाक गाव के एक ही परिवार के 4 सदस्यों को दिया गया आवास--- रिपोर्ट अमित सिंह अम्बेडकरनगर खंड विकास अधिकारी से शिकायत के बावजूद भी ग्राम...

सिटीजन चार्टर के संबंध में ग्राम पंचायत चककोड़ार मे बैठक

  रिपोर्ट _अमित सिंह अम्बेडकरनगर  बृहस्पतिवार को ग्राम पंचायत चककोड़ार मे सिटीजन चार्टर के संबंध में बैठक की गई जिनमे ग्राम पंचायत के लोगों को सिटीजन...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -